ङ माने कुछ नहीं ,क्यों कहा जाता हैं ? |Rochak tathya |रोचक तथ्य |Rochak tathya in hindi |

ङ  माने  कुछ नहीं  ,क्यों कहा जाता हैं ?


Question:
क  से  कबूतर
ख  से  खरगोश 
ग   से  गमला 
घ   से  घडी 
ङ  माने  कुछ नहीं  ,क्यों कहा जाता हैं ?

Answer:
ङ  माने  कुछ नहीं ,इसलिए कहा जाता  हैं क्योंकि ङ का प्रयोग  शब्दारंभ (शब्द के आरम्भ ) में  नहीं  होता | अतः शब्दारंभ में नहीं  प्रयोग होने के कारण ङ से कोई शब्द नहीं  बनता हैं | यह मध्य या अन्त  में आता हैं | 
    इसी प्रकार ,ञ और ण माने कुछ नहीं कहा जाता हैं ,क्योंकि इनका प्रयोग  शब्दारंभ (शब्द के आरम्भ ) में 
नहीं  होता  | ये  मध्य या अन्त  में आते  हैं |